शिक्षा व्यवस्था

शिक्षा व्यवस्था

शिक्षा व्यवस्था किसी भी राष्ट्र अथवा समाज में शिक्षा सामाजिक नियंत्रण, व्यक्तित्व निर्माण तथा सामाजिक व आर्थिक प्रगति का मापदंड होती है । भारत की वर्तमान शिक्षा व्यवस्था या  प्रणाली ब्रिटिश प्रतिरूप पर आधारित है जिसे सन् 1835 ई॰ में लागू किया गया ।

जिस तीव्र गति से भारत के सामाजिक, राजनैतिक व आर्थिक परिदृश्य में बदलाव आ रहा है उसे देखते हुए यह आवश्यक है कि हम देश की शिक्षा प्रणाली की पृष्ठभूमि, उद्‌देश्य, चुनौतियों तथा संकट पर गहन अवलोकन करें ।

सन् 1835 ई॰ में जब वर्तमान शिक्षा प्रणाली की नींव रखी गई थी तब लार्ड मैकाले ने स्पष्ट शब्दों में कहा था कि अंग्रेजी शिक्षा का उद्‌देश्य भारत में प्रशासन के लिए बिचौलियों की भूमिका निभाने तथा सरकारी कार्य के लिए भारत के विशिष्ट लोगों को तैयार करना है ।

इसके फलस्वरूप एक सदी तक अंग्रेजी शिक्षा के प्रयोग में लाने के बाद भी 1935 ई॰ में भारत की साक्षरता दस प्रतिशत के आँकड़े को भी पार नहीं कर पाई । स्वतंत्रता प्राप्ति के समय भारत की साक्षरता मात्र 13 प्रतिशत ही थी ।

क्या खोया हमने

इस शिक्षा प्रणाली ने उच्च वर्गों को भारत के शेष समाज में पृथक् रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई । ब्रिटिश समाज में बीसवीं सदी तक यह मानना था कि श्रमिक वर्ग के बच्चों को शिक्षित करने का तात्पर्य है उन्हें जीवन में अपने कार्य के लिए अयोग्य बना देना । ब्रिटिश शिक्षा प्रणाली ने निर्धन परिवारों के बच्चों के लिए भी इसी नीति का अनुपालन किया ।

लगभग पिछले दो सौ वर्षों की भारतीय शिक्षा प्रणाली के विश्लेषण से यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि यह शिक्षा नगर तथा उच्च वर्ग केंद्रित, श्रम तथा बौद्‌धिक कार्यों से रहित थी । इसकी बुराइयों को सर्वप्रथम गाँधी जी ने 1917 ई॰ में गुजरात एजुकेशन सोसायटी के सम्मेलन में उजागर किया तथा शिक्षा में मातृभाषा के स्थान और हिंदी के पक्ष को राष्ट्रीय स्तर पर तार्किक ढंग से रखा

। स्वतंत्रता संग्राम के दिनों में शांति निकेतन, काशी विद्‌यापीठ आदि विद्‌यालयों में शिक्षा के प्रयोग को प्राथमिकता दी गई ।

शिक्षा कानून

सन् 1944 ई॰ में देश में शिक्षा कानून पारित किया गया । स्वतंत्रता प्राप्ति के उपरांत हमारे संविधान निर्माताओं तथा नीति-नियामकों ने राष्ट्र के पुननिर्माण, सामाजिक-आर्थिक विकास आदि क्षेत्रों में शिक्षा के महत्व को स्वीकार किया । इस मत की पुष्टि हमें राधाकृष्ण समिति (1949), कोठारी शिक्षा आयोग (1966) तथा नई शिक्षा नीति (1986) से मिलती है ।

शिक्षा के महत्व को समझते हुए भारतीय संविधान ने अनुसूचित जातियों व जनजातियों के लिए शिक्षण संस्थाओं व विभिन्न सरकारी अनुष्ठानों आदि में आरक्षण की व्यवस्था की । पिछड़ी जातियों को भी इन सुविधाओं के अंतर्गत लाने का प्रयास किया गया । स्वतंत्रता के बाद हमारी साक्षरता दर तथा शिक्षा संस्थाओं की संख्या में नि:संदेह वृद्‌धि हुई है परंतु अब भी 40 प्रतिशत से अधिक जनसंख्या निरक्षर है ।

दुर्भाग्यपूर्ण बात यह है कि स्वतंत्रता के बाद विश्वविद्यालयों में उच्च शिक्षा व प्राविधिक शिक्षा का स्तर तो बढ़ा है परंतु प्राथमिक शिक्षा का आधार दुर्बल होता चला गया । शिक्षा का लक्ष्य राष्ट्रीयता, चरित्र निर्माण व मानव संसाधन विकास के स्थान पर मशीनीकरण रहा जिससे चिकित्सकीय तथा उच्च संस्थानों से उत्तीर्ण छात्रों में लगभग 40 प्रतिशत से भी अधिक छात्रों का देश से बाहर पलायन जारी रहा ।

देश में प्रौढ़ शिक्षा और साक्षरता के नाम पर लूट-खसोट, प्राथमिक शिक्षा का दुर्बल आधार, उच्च शिक्षण संस्थानों का अपनी सशक्त भूमिका से अलग हटना तथा अध्यापकों का पेशेवर दृष्टिकोण वर्तमान शिक्षा प्रणाली के लिए एक नया संकट उत्पन्न कर रहा है ।

पूँजीवादी अर्थव्यवस्था के नए चेहरे, निजीकरण तथा उदारीकरण की विचारधारा से शिक्षा को भी ‘उत्पाद’ की दृष्टि से देखा जाने लगा है जिसे बाजार में खरीदा-बेचा जाता है । इसके अतिरिक्त उदारीकरण के नाम पर राज्य भी अपने दायित्वों से विमुख हो रहे हैं ।

बदलाव की आवश्यकता

इस प्रकार सामाजिक संरचना से वर्तमान शिक्षा प्रणाली के संबंधों, पाठ्‌यक्रमों का गहन विश्लेषण तथा इसकी मूलभूत दुर्बलताओं का गंभीर रूप से विश्लेषण की चेष्टा न होने के कारण भारत की वर्तमान शिक्षा प्रणाली आज भी संकटों के चक्रव्यूह में घिरी हुई है । प्रत्येक दस वर्षों में पाठ्य-पुस्तकें बदल दी जाती हैं लेकिन शिक्षा का मूलभूत स्वरूप परिवर्तित कर इसे रोजगारोन्मुखी बनाने की आवश्यकता है ।

हमारी वर्तमान शिक्षा प्रणाली गैर-तकनीकी छात्र-छात्राओं की एक ऐसी फौज तैयार कर रही है जो अंततोगत्वा अपने परिवार व समाज पर बोझ बन कर रह जाती है । अत: शिक्षा को राष्ट्र निर्माण व चरित्र निर्माण से जोड़ने की नितांत आवश्यकता है ।

 

Pushpendra Kumar

P.HD (Pursuing).  M.C.A, M.A (ENG), B.ED

D.C.S.E (Diploma in computer science and Engineering)

More Articles-
क्या बदला कोरोना काल में-

 

 

21 thoughts on “शिक्षा व्यवस्था”

  1. You made a number of nice points there. I did a search on the topic and found a good number of people will go along with with your blog. Marcie Bartholomew Carly

  2. I loved up to you will obtain performed proper here. The cartoon is attractive, your authored subject matter stylish. however, you command get bought an shakiness over that you wish be turning in the following. ill unquestionably come more formerly once more as exactly the similar just about a lot incessantly inside of case you shield this increase. Grace Gilbert Farnham

  3. Howdy! I simply would like to give you a big thumbs up for your great info you have got here on this post. I am coming back to your web site for more soon. Carlynne Elton Jethro

  4. You made some really good points there. I checked on the net to find out more about the issue and found most people will go along with your views on this website. Lillian Frederic Palmira

  5. After looking over a handful of the blog posts on your web site, I seriously appreciate your technique of writing a blog. I saved it to my bookmark webpage list and will be checking back soon. Take a look at my website too and let me know what you think. Filia Kendrick Teriann

  6. Nice post. I learn something totally new and challenging on blogs I stumbleupon on a daily basis. It will always be exciting to read content from other writers and use a little something from their web sites. Joelynn Pail Clarita

  7. I blog frequently and I seriously appreciate your content. This great article has really peaked my interest. I will take a note of your site and keep checking for new details about once a week. I subscribed to your RSS feed too. Nani Heriberto O’Grady

  8. Thanks for sharing your thoughts. I truly appreciate your efforts and I will be waiting for your next write ups thank you once again.| Marena Miltie Vito

  9. Do you have a spam problem on this site; I also am a blogger, and I was wondering your situation; many of us have developed some nice procedures and we are looking to swap solutions with other folks, be sure to shoot me an e-mail if interested. Del Ker Batory

  10. we prefer to honor quite a few other online web-sites on the web, even if they arent linked to us, by linking to them. Underneath are some webpages really worth checking out Korrie Darnall Petronia

  11. Every weekend i used to visit this site, as i wish for enjoyment, since this this website conations really good funny information too. Lissa Davis Shani

  12. For most up-to-date information you have to go to see
    world-wide-web and on the web I found this website as
    a most excellent website for most up-to-date updates.

  13. I am extremely inspired with your writing skills
    as well as with the format on your blog. Is that this a paid subject or did you customize it your self?
    Anyway stay up the nice high quality writing, it’s uncommon to peer a great weblog like this one these days..

  14. Hi, I do believe this is a great website. I
    stumbledupon it 😉 I may come back yet again since I
    bookmarked it. Money and freedom is the greatest way to change, may you
    be rich and continue to help others.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *